भौगोलिक सूचना प्रणाली सेवायें

मिसाल के तौर पर उभरती हुई प्रौद्योगिकी में भौगोलिक सूचना प्रणाली (जी आई एस) एक शक्‍तिशाली उपस्‍कर के रुप में उभरी है जिसके पास सारणीबद्ध संबंधों से युक्‍त पेचीदा स्‍थानिक पर्यावरण तैयार करने की संभावित क्षमता मौजूद है । सुनिश्‍चित नौ संचालन तथा इमेजिंग उपग्रहों, एयरक्राफ्टो, लेन-देन संबंधी डाटा बेसों तथा नक्‍शों के अंकीकरण से प्राप्‍त डॉटा सेटों का इस्‍तेमाल करते हुए अंकीय स्‍थानीय डॉटा बेस को विकसित करने पर बल दिया जाता है । जी आई एस की शक्‍ति तथा संभावना एकमात्र कल्‍पना शक्‍ति ही तक सीमित है । विश्‍व भर में भौगोलिक रुप से सूचना के स्‍थानांतरण तथा विश्‍लेषण हेतु तथा डाटा का प्रभावी रुप से निपटान करने के लिए भौगोलिक सूचना प्रणालियों के इस्‍तेमाल हेतु हाल ही के वर्षों में संग्रहण विश्‍लेषण तथा जटिल व स्‍थूल डाटा के प्रदर्शन हेतु इसकी अत्‍यधिक मॉग है । राष्‍ट्रीय सूचना-विज्ञान केन्‍द्र अपने प्रयोक्‍ताओं हेतु जिसनिक सॉफ्टवेयर उपलब्‍ध कराता है जिसे पुनप्रार्प्‍ति प्रक्षेपण, परिवर्तन तथा स्‍थानिक व गैर-स्‍थानिक डाटा दोनों के विश्‍लेषण हेतु संपूर्ण अत्‍याधुनिक जी आई एस समाधान प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है जिससे कि प्रयोक्‍ता (स्‍थानिक) व एट्रीब्‍यूट (विषयक) डाटा के समन्‍वयन, प्रबंध करने उसका परिचालन करने तथा विषयक नक्‍शों तथा इसके साथ-साथ सारणीबद्ध रिपोर्टों को तैयार करने में सक्षम हो सकें ।

  • URL

  • Contact Details

    प्रधान, रिमोट सेंसिंग व जी आई एस प्रभाग रा.सू.वि. केन्‍द्र संचार व सूचना प्रौद्योगीकी मंत्रालय ए-ब्‍लॉक, सी.जी.ओ कॉम्‍प्‍लेक्‍स नई दिल्‍ली-110003
    Email:vishnu[at]nic[dot]in, uday[dot]kumar[at]nic[dot]in,rsgis[at]nic[dot]in
    Phone:011-24364709