profile-img

रिमोट सेंसिंग और जीआईएस

मुखपृष्ठ  »     »  रिमोट सेंसिंग और जीआईएस

रिमोट सेंसिंग और जीआईएस


डिजिटल इंडिया का उद्देश्य ई-गवर्नेंस डोमेन में मिशन मोड प्रोजेक्ट्स के हिस्से के रूप में एंड टू एंड जियो-स्पेशियल इलेक्ट्रॉनिक्स डिलीवरी सिस्टम स्थापित करना है और योजना और शासन के लिए स्थान-आधारित इलेक्ट्रॉनिक डिलीवरी सेवाओं की मुख्य नींव के रूप में ‘राष्ट्रीय जीआईएस मिशन’ की परिकल्पना करता है।

एनआईसी की जीआईएस सेवा वितरण के लिए प्लेटफार्म
क) विज़ुअलाइज़ेशन सेवाएं (https://bharatmaps.gov.in/)
ये सेवाएं सरकार के साथ-साथ नागरिकों के लिए भी खुली हैं

(ख) मानचित्र सेवाएं (https://mapservice.gov.in/)
एनआईसी ने लगभग 32 परतों से युक्त एक स्वचालित मानचित्र सेवा प्रसार अनुप्रयोग विकसित किया है। यह प्लेटफॉर्म सभी एनआईसी अधिकारियों को उनके ई-गवर्नेंस एप्लिकेशन में मैप सेवाओं तक पहुंचने और एकीकृत करने में सक्षम बनाता है। एसबीएम (ग्रामीण), पेयजल पोर्टल आदि के लिए स्वच्छता और पेयजल मंत्रालय जैसे विभिन्न मंत्रालयों और विभागों को मानचित्र सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। इसी तरह की सेवाएं ग्रामीण विकास मंत्रालय, शहरी विकास मंत्रालय, भूमि संसाधन विभाग, श्रम विभाग, वाहन और सारथी परियोजनाएं, केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (सीजीएचएस), स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली (एचएमआईएस) आदि को प्रदान की जा रही हैं।

(ग) जियोकोडिंग और रिवर्स जियोकोडिंग सेवाएं
जियोकोडिंग एक स्थान के विवरण को बदलने की प्रक्रिया है जैसे कि निर्देशांक की एक जोड़ी, एक पता और पृथ्वी की सतह पर किसी स्थान का नाम । एनआईसी ने भारत मैप्स पर तीन जियोकोडिंग विकल्प शामिल किए हैं – एनआईसी प्लेस लोकेटर, पिन कोड लोकेटर और ईएसआरआई वर्ल्ड जियोकोडर।

(घ) एनआईसी सैटेलाइट इमेजरी
सैटेलाइट इमेजरी स्थान की नवीनतम जानकारी का एक वैध स्रोत है, और इसलिए, इसकी आधार मानचित्र सेवा होने से विज़ुअलाइज़ेशन और डेटा सत्यापित करने के लिए अतिरिक्त लाभ होता है। “मल्टी-लेयर जीआईएस फ्रेमवर्क के अपस्कलिंग” परियोजना के भाग के रूप में यह आवश्यक था कि इन-हाउस और उच्च रिज़ॉल्यूशन वाली राष्ट्रीय सेवाओं को बनाने के लिए मौजूदा चयनित जीआईएस परतों को 1:10,000 पैमाने पर अपग्रेड हो ताकि Google, बिंग आदि जैसी बाहरी सेवाओं के बजाय सरकारी एप्लिकेशन का उपयोग हो ।

एनआईसी मैप्स सेवाओं का उपयोग करते हुए राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) द्वारा स्थापित जीआईएस प्लेटफॉर्म को ‘भारत मैप्स’ के रूप में नया रूप दिया गया है। यह विभिन्न एजेंसियों के डेटा का उपयोग करते हुए एक एकीकृत बहु-स्तरीय, बहु-रिज़ॉल्यूशन बेस मैप सेवा के रूप में मूल नींव डेटा को दर्शाता है।

एनआईसी का मल्टी-लेयर जीआईएस प्लेटफॉर्म, भारत मैप्स ऐसे मल्टी-स्केल और मल्टी-रिज़ॉल्यूशन सर्विस-ओरिएंटेड फ्रेमवर्क को परिभाषित करता है, जो एपीआई आधारित ओजीसी कंप्लेंट (डब्ल्यूएमएस, डब्ल्यूएफएस आदि) मैप सर्विसेज का भी लाभ उठा रहा है ताकि स्वच्छ भारत मिशन, स्कूल, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसे सरकार के प्रमुख कार्यक्रमों के ई-गवर्नेंस वर्कफ्लो से जुड़ा हो सके। यह आसान, प्रभावी और किफायती शासन सुनिश्चित करने के लिए डिजिटल इंडिया कार्यक्रम का एक अनिवार्य घटक है। यह नागरिक केंद्रित सेवाएं प्रदान करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार के विभागों को जीआईएस आधारित निर्णय समर्थन प्रणाली भी प्रदान करता है।

अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें: https://bharatmaps.gov.in/

error: Content is protected !!